Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Published on Author guptaLeave a comment

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi – As in every year there is the celebration of the one of the most celebrated day all over the country which is ” Babasaheb Ambedkar Jayanti “. This year too this day will be celebrated with more joyness, cheerful and more enthusiasm all over the nation. As you know that  this person is the one who prepared the national constitution of an Indian government, which delights about for how many hours an person or an employee in his / her job must do the work. More details about this festival will be getting to you by reading the below sub-headings too.

Also Read – Theri Movie First 1st Day Box Office Collection | Opening Day Earning Reports

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | DJ NS Production, DJ Rex, DJ Chas, SK Production, DJ Aman Kolhapur, DJ Ajay

Here were the name of the certain top most dj’s which are best at their music production remix’s. As they have provided with the mp3 files, and currently we are unable to link them. So we you can search them by any of the above names in google it will get to you. Here we are providing you with some of the video songs related to the Babasaheb Ambedkar Jayanti.

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Speech in Marathi Hindi | Thoughts in Marathi Hindi

We are here about to provide you with the most brilliant and the powerful package of speech’s and some of his great thoughts in the below part along with some exclusive images too.

Also Read – Babasaheb Ambedkar Jayanti Wishes | Messages | Quotes | Status for whatsapp and facebook | Images, Pics

  • 20वीं शताब्दी के श्रेष्ठ चिन्तक, ओजस्वी लेखक, तथा यशस्वी वक्ता एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री डॉ. भीमराव आंबेडकर भारतीय संविधान के प्रमुख निर्माणकर्ता हैं। विधि विशेषज्ञ, अथक परिश्रमी एवं उत्कृष्ट कौशल के धनी व उदारवादी, परन्तु सुदृण व्यक्ति के रूप में डॉ. आंबेडकर ने संविधान के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। डॉ. आंबेडकर को भारतीय संविधान का जनक भी माना जाता है।

छुआ-छूत का प्रभाव जब सारे देश में फैला हुआ था, उसी दौरान 14 अप्रैल, 1891 को बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का जन्म हुआ था। बचपन से ही बाबा साहेब ने छुआ-छूत की पीङा महसूस की थी। जाति के कारण उन्हें संस्कृत भाषा पढने से वंचित रहना पड़ा था। कहते हैं, जहाँ चाह है वहाँ राह है। प्रगतिशील विचारक एवं पूर्णरूप से मानवतावादी बङौदा के महाराज सयाजी गायकवाङ ने भीमराव जी को उच्च शिक्षा हेतु तीन साल तक छात्रवृत्ती प्रदान की, किन्तु उनकी शर्त थी की अमेरिका से वापस आने पर दस वर्ष तक बङौदा राज्य की सेवा करनी होगी। भीमराव ने कोलम्बिया विश्वविद्यालय से पहले एम. ए. तथा बाद में पी.एच.डी. की डिग्री प्राप्त की ।
उनके शोध का विषय “भारत का राष्ट्रीय लाभ” था। इस शोध के कारण उनकी बहुत प्रशंसा हुई। उनकी छात्रवृत्ति एक वर्ष के लिये और बढा दी गई। चार वर्ष पूर्ण होने पर जब भारत वापस आये तो बङौदा में उन्हे उच्च पद दिया गया किन्तु कुछ सामाजिक विडंबना की वजह से एवं आवासिय समस्या के कारण उन्हें नौकरी छोङकर बम्बई जाना पङा। बम्बई में सीडेनहम कॉलेज में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर नियुक्त हुए किन्तु कुछ संकीर्ण विचारधारा के कारण वहाँ भी परेशानियों का सामना करना पङा। इन सबके बावजूद आत्मबल के धनी भीमराव आगे बढते रहे। उनका दृण विश्वास था कि मन के हारे, हार है, मन के जीते जीत। 1919 में वे पुनः लंदन चले गये। अपने अथक परिश्रम से एम.एस.सी., डी.एस.सी. तथा बैरिस्ट्री की डिग्री प्राप्त कर भारत लौटे।
1923 में बम्बई उच्च न्यायालय में वकालत शुरु की अनेक कठनाईयों के बावजूद अपने कार्य में निरंतर आगे बढते रहे। एक मुकदमे में उन्होने अपने ठोस तर्कों से अभियुक्त को फांसी की सजा से मुक्त करा दिया था। उच्च न्यायालय के न्यायाधीश ने निचली अदालत के फैसले को रद्द कर दिया। इसके पश्चात बाबा साहेब की प्रसिद्धी में चार चाँद लग गया।

डॉ. आंबेडकर की लोकतंत्र में गहरी आस्था थी। वह इसे मानव की एक पद्धति (Way of Life) मानते थे। उनकी दृष्टी में राज्य एक मानव निर्मित संस्था है। इसका सबसे बङा कार्य “समाज की आन्तरिक अव्यवस्था और बाह्य अतिक्रमण से रक्षा करना है।“ परन्तु वे राज्य को निरपेक्ष शक्ति नही मानते थे। उनके अनुसार- “किसी भी राज्य ने एक ऐसे अकेले समाज का रूप धारण नहीं किया जिसमें सब कुछ आ जाय या राज्य ही प्रत्येक विचार एवं क्रिया का स्रोत हो।“
अनेक कष्टों को सहन करते हुए, अपने कठिन संर्घष और कठोर परिश्रम से उन्होंने प्रगति की ऊंचाइयों को स्पर्श किया था। अपने गुणों के कारण ही संविधान रचना में, संविधान सभा द्वारा गठित सभी समितियों में 29 अगस्त, 1947 को “प्रारूप-समिति” जो कि सर्वाधिक महत्वपूर्ण समिति थी, उसके अध्यक्ष पद के लिये बाबा साहेब को चुना गया। प्रारूप समिति के अध्यक्ष के रूप में डॉ. आंबेडकर ने महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह किया। संविधान सभा में सदस्यों द्वारा उठायी गयी आपत्तियों, शंकाओं एवं जिज्ञासाओं का निराकरण उनके द्वारा बङी ही कुशलता से किया गया। उनके व्यक्तित्व और चिन्तन का संविधान के स्वरूप पर गहरा प्रभाव पङा। उनके प्रभाव के कारण ही संविधान में समाज के पद-दलित वर्गों, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के उत्थान के लिये विभिन्न संवैधानिक व्यवस्थाओं और प्रावधानों का निरुपण किया ; परिणाम स्वरूप भारतीय संविधान सामाजिक न्याय का एक महान दस्तावेज बन गया।

1948 में बाबा साहेब मधुमेह से पीड़ित हो गए । जून से अक्टूबर 1954 तक वो बहुत बीमार रहे इस दौरान वो नैदानिक अवसाद और कमजोर होती दृष्टि से भी ग्रस्त रहे । अपनी अंतिम पांडुलिपि बुद्ध और उनके धम्म को पूरा करने के तीन दिन के बाद 6 दिसंबर 1956 को अम्बेडकर इह लोक त्यागकर परलोक सिधार गये। 7 दिसंबर को बौद्ध शैली के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया जिसमें सैकड़ों हजारों समर्थकों, कार्यकर्ताओं और प्रशंसकों ने भाग लिया। भारत रत्न से अलंकृत डॉ. भीमराव अम्बेडकर का अथक योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता , धन्य है वो भारत भूमि जिसने ऐसे महान सपूत को जन्म दिया ।

जय हिन्द जय भारत

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Essay In Marathi Hindi | Poem in Marathi Hindi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in MarathiDr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Dr. Babasaheb Ambedkar Jayanti Special Dj Remix Songs | Speech in Marathi | Thoughts | Essay | Poem in Marathi

Also Read – Sri Ram Navami 2016 Wishes Greetings Quotes SMS Messages Status for Whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *